12 वर्षों से पर्यावरण के प्रति अपना कर्तव्य निभाते हुए श्री नवीन निराला जी ने 51 हजार वृक्षों का रोपण किया

बिहार के रहने वाले नवीन निराला पर्यावरण प्रेमियों के लिए एक प्रेरणा हैं। उन्होंने पर्यावरण के लिए कुछ ऐसा किया है, जिसे देखकर लोगों ने बहुत कुछ सीखा है। उनकी वजह से उनके अगल-बगल भी पर्यावरण को लेकर खूब जागरूकता आई है। बचपन से ही पौधारोपण के शौकीन नवीन निराला ने 2010 में बिहार जिले के लखीसराय के सूर्यगढ़ा खंड के लोसघानी पंचायत के शिव नगर गांव में उन्होंने अपना नर्सरी बना कर वृक्षारोपण की शुरुआत की थी। जिसके बाद से वह कभी रुके नहीं।

अब 12 वर्षों के बाद उनके द्वारा लगाए गए पौधे पेड़ हो गए हैं। पेड़ों पर अब चिड़ियों को अपना ठिकाना भी मिल रहा है और इसके साथ ही लोगों को ऑक्सीजन भी पर्याप्त मात्रा में मिल रही है। वह बताते हैं कि पेड़ लगाने का कारवां अभी रूका नहीं है। अभी भी हर वर्ष में वृक्ष लगाए जाते हैं। उनके द्वारा किसानों के खेतों में फलदार पेड़ जैसे आम, अमरूद, जामुन, कटहल, पाकड़, गूलर, नीम, अशोक, अर्जुन, छतवान, शीशम, कदम, और महोगन इत्यादि पेड़ लगाए जाते हैं। अब तक उनके द्वारा 51 हजार पेड़ रोपित किए गए हैं।

उनके पर्यावरण के प्रेम को इस प्रकार देखा जा सकता है कि उन्होंने स्थानीय रेलवे स्टेशन अभय पुर के प्लेटफार्म के किनारे भी 25 पेड़ लगाए हैं। उनका मानना है कि इन पेड़ों से रेलवे स्टेशन पर आने वाले यात्रियों को छाया के साथ साथ प्राकृतिक ऑक्सीजन प्राप्त होगा। नवीन निराला ने केवल पौधे ही नहीं लगाए हैं बल्कि जल संरक्षण के लिए भी काम किया है। उनके गांव के पूर्वजों द्वारा 45 साल पहले एक निजी तालाब खेती के लिए खुदवाया गया था। जिसको नवीन ने 6 वर्ष पहले पुनः तालाब की खुदाई कर और गहरा किया। अब इस तालाब में 14 फीट पानी साल भर संरक्षित रहता है। जिससे लोगों की जरूरतें पूरी होती हैं। नवीन कहते हैं कि फलदार पेड़ लगाने से आपका पर्यावरण अच्छा होता ही है, साथ ही इसके जरिए आप कमाई भी कर सकते हैं। हम सबको ऐसे लोगों से प्रेरणा लेकर पर्यावरण के प्रति सजग होने की बेहद आवश्यकता है।

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x