हरित योद्धा पेड़ लगाने के लिए 11 साल से जल्दी उठता है

औद्योगिकीकरण और बढ़ते शहरीकरण के कारण लोग अब वृक्षारोपण कम करने लगे हैं। कुछ राष्ट्रीय और सांस्कृतिक अवसर के अलावा आमजन वृक्षारोपण के लिए आगे नहीं आ रहे हैं, लेकिन हमारे बीच ऐसे भी लोग हैं जो बिना किसी अवसर के भी वृक्षारोपण करने में पीछे नहीं है। जब चारों तरफ हरा-भरा देखने की ललक हो तो फिर आपको वृक्षारोपण करना ही पड़ेगा। कुछ ऐसा ही कर रहे हैं कोच्चिबिहार के हजारापारा रहने वाले
बिनॉय दास।

जो पिछले 11 वर्षों से वृक्षारोपण और उनकी देखभाल के लिए सुबह जल्दी उठ जाते हैं। वृक्षारोपण करने के पीछे उनका मानना है कि हम प्रकृति को पास से सुन पाएंगे। चिड़ियों का चहकना और पेड़ की छाया हम सबको एक सुकून की ओर ले जाएगी। पर्यावरण के प्रति बिनॉय दास के इस प्रेम को देखते हुए हम सब कह सकते हैं कि इस तरह का हर व्यक्ति करे तो यह संसार एक बार फिर से पूरी तरह से हरा-भरा हो जाएगा।

इसके साथ ही भारत के पर्यावरण मंत्रालय ने बिनॉय दास के प्रयासों को ध्यान में रखते हुए उन्हें पुरस्कृत किया है।

जब ऐसे लोगों को पुरस्कृत किया जाता है तो उनके आसपास रहने वाले लोग भी पर्यावरण के प्रति अधिक जागरूक हो जाते हैं। हम सबको बिनॉय दास से प्रेरणा लेनी चाहिए कि केवल खास दिनों पर पेड़ लगाने की बजाय आम दिन पर भी वृक्षारोपण की ओर ध्यान देना चाहिए।

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x