अक्षयतृतीया के अवसर पर नये जोडे के हाथ से फलदार पेड का वृक्षारोपण, प्रांत – दक्षिण बिहार

पेड़ों के बिना जीवन की कल्पना करना बेमानी है। ऐसे में हम सबको इस बात का ध्यान रखना होगा कि हमारे आसपास कितने पेड़ हैं। हमारे समाज में बहुत सारे ऐसे लोग हैं। जो पर्यावरण के प्रति बेहद संवेदनशील हैं, वह अपने आसपास को हरा भरा रखने के लिए वृक्षारोपण करते हैं। ऐसे में भगवान परशुराम जयंती और अक्षय तृतीया के मौके पर बिछवे, चानन, लखीसराय में पर्यावरण भारती द्वारा फलदार पेड़ आम का वृक्षारोपण किया गया।

इस मौके पर वृक्षारोपण का शुभारंभ वर – वधु और नव दंपति द्वारा किया गया। वृक्षारोपण का नेतृत्व पर्यावरण भारती के अमित कुमार मल्लिक ने किया। पर्यावरण भारती के संस्थापक, पर्यावरण संरक्षण गतिविधि के प्रांत संयोजक अखिल भारतीय पेड़ प्रकल्प टोली सदस्य रामविशाल शांडिल्य ने बताया कि इस समय रूस और यूक्रेन के महायुद्ध के कारण ग्लोबल वार्मिंग बढ़ रही है। इससे बचने के लिए वृक्षारोपण बेहद जरूरी है।

उन्होंने बताया कि आज इस कार्यक्रम में सागर महत्व और राकेश महतो ने अपनी पत्नी श्रीमती नेहा कुशवाहा के विवाह के अवसर पर 11 पेड़ लगाए हैं। अक्षय तृतीया के अवसर पर पेड़ लगाने के विषय पर उन्होंने कहा कि ऐसे अवसरों पर ज्यादा से ज्यादा लोग हमसे जुड़ सकते हैं। ऐसे अभियान में सभी मानव को शामिल होना चाहिए। इसके कारण ही हम पृथ्वी को हरा भरा रख पाने में सक्षम बन पाएंगे।

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x